Gujarat Me Bemausam Baarish Ka Kahar, Logo Ki Hui Maut 

कल  gujarat me bemausam baarish ने रोजमर्रा की जिंदगी अस्त-व्यस्त कर दी। सरकारी विभाग का दावा है कि बिजली गिरने से 20 लोगों की मौत हो गई। चिंता यह भी है कि इसके अलावा मौत का आकंड़ा बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। तेज बारिश के कारण 40 मवेशियों की भी मौत हो गई है।

जो जिले gujarat me bemausam baarish से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं वे हैं अमरेली, सुरेंद्रनगर, मेहसाणा, बोटाद, पंचमहल, खेड़ा, साबरकांठा, सूरत और अहमदाबाद। इन जिलों में भारी बारिश के अलावा पांच किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की तेज हवाएं चलीं।

Gujarat Police Kregi 6400 TRB Jawan Ko Duty Se Mukt

महाराष्ट्र के नासिक में बेमौसम बारिश से फसलों को पंहुचा नुकसान 

महाराष्ट्र के नासिक जिले के कई हिस्सों में असामान्य रूप से भारी बारिश के अलावा ओले भी गिरे। परिणामस्वरूप किसानों को फसल का काफी नुकसान हुआ है। नासिक के निफाड, लासलगांव, मनमाड और चंदवाड जिलों में गरज और बिजली के साथ बारिश हुई। किसानों को इसके परिणामस्वरूप प्याज और अंगूर के उत्पादन में गंभीर नुकसान होने का अनुमान है।

साथ ही, नासिक के पास गंगापुर बांध से जायकवाड़ी में पानी छोड़े जाने के परिणामस्वरूप गोदावरी नदी का जल स्तर बढ़ गया है। परिणामस्वरूप, पर्यटकों की कारें नदी के किनारे पानी में डूब गईं। उधर, बेमौसम बारिश से शहर के कई हिस्सों में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है।

लोगो की मौत पर अमित शाह ने जताया दुःख 

रविवार रात अमित शाह ने सोशल मीडिया साइट एक्स पर पोस्ट करते हुए कहा, ”gujarat me bemausam baarish से विभिन्न शहरों में खराब मौसम और बिजली गिरने से कई लोगों की मौत होने की खबर से मुझे गहरा दुख हुआ है।

इस त्रासदी में अपने प्रियजन को खोने वाले लोगों को जो अपूरणीय क्षति हुई, उसके लिए मैं गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। स्थानीय प्रशासन राहत कार्य में जुटा हुआ है। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं”

Gujarat me Bemausam Baarish: मौसम विभाग ने कही ये बात

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के मुताबिक, सोमवार को कम बारिश हो सकती है। एसईओसी द्वारा प्रकाशित आंकड़ों से पता चलता है कि रविवार को गुजरात के 252 तालुकाओं में से 234 में बारिश हुई। सूरत, सुरेंद्रनगर, खेड़ा, तापी, भरूच और अमरेली जिलों में 16 घंटों में 50-117 मिमी बारिश हुई, जिससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया और फसलों को नुकसान पहुंचा।

राजकोट के कई इलाकों में ओले गिरे . अधिकारियों ने बताया कि बारिश से फसलों को हुए नुकसान के अलावा सौराष्ट्र क्षेत्र के मोरबी जिले में उद्योगों के बंद होने से सिरेमिक क्षेत्र पर भी असर पड़ा। आईएमडी के अहमदाबाद केंद्र की प्रमुख मनोरमा मोहंती के अनुसार, सोमवार को बारिश कम होने की उम्मीद है और ज्यादातर दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र के जिलों के कुछ इलाकों में होगी।

Best National Park In Gujarat

Spa Centre Pr Chhapemaari Kr Ladkiyo Ki Bachai Jaan

Leave a Comment